गुरुवार, 14 जून 2007

मोहे नोंच नोंच खायियो कागा, खुन बुझैयो प्यास,
ये दो नैना मत खायियो, मोहे पिया मिलन कि आस।

-------------- अज्ञात

कोई टिप्पणी नहीं: