शुक्रवार, 8 जून 2007

`हम जानते तो इश्क ना करते किसू के साथ,
ले जाते दिल को खाक में इस आरजू के साथ।

-------- मीर

कोई टिप्पणी नहीं: