रविवार, 13 फ़रवरी 2011

ख़ुशी चेहरे पे कहाँ होती है इसे महसूस करो
लोग अश्कों को मुखौटों में छुपा लेते हैं

कोई टिप्पणी नहीं: